Name and their tenure of current governors and deputy governors of Indian states

भारतीय राज्यों के वर्तमान राज्यपाल एवं उप-राज्यपालों के नाम एवं उनका कार्यकाल


राज्यपाल किसे कहते है?
भारत गणराज्य में राज्यपाल 29 राज्यों में राज्य प्रमुख का संवैधानिक पद होता है। राज्यपाल की नियुक्ति भारत के राष्ट्रपति 5 वर्ष के लिए करते हैं और वे राष्ट्रपति की मर्जी पर पद पर रहते हैं। राज्यपाल राज्य सरकार का विधित मुखिया होता है जिसकी कार्यकारी कार्रवाई राज्यपाल के नाम पर सम्पन्न होती है।
भारतीय राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 30 सितम्बर 2017 को देश के पांच राज्यों में नए राज्यपालों की नियुक्ति की है। जिन राज्यों के राज्यपालों(गवर्नरों) को बदला गया है, उनमें मेघालय, असम, अरुणाचल प्रदेश, तमिलनाडु और बिहार शामिल हैं। इसके अलावा अण्डमान और निकोबार द्वीपसमूह के उपराज्यपाल को भी बदला गया है। आइये जानते है इन बदलावों के बाद कौन किस राज्य में राज्यपाल पद पर कार्यरत है:-

भारतीय राज्यों के वर्तमान राज्यपालों की सूची 2017:-

राज्य का नामराज्यपाल का नामपदग्रहण (कार्यकाल अवधि)
अरुणाचल प्रदेशब्रिगेडियर बीडी मिश्रा30 सितम्बर, 2017
असमजगदीश मुखी30 सितम्बर, 2017
आन्ध्र प्रदेशई॰एस॰एल॰ नरसिंहन28 दिसम्बर 2009 (06 वर्ष, 123 दिन)
उत्तर प्रदेशराम नाईक14 जुलाई 2014 (01 वर्ष, 290 दिन)
उत्तराखण्डकृष्णकांत पॉल08 जनवरी 2015 (01 वर्ष, 112 दिन)
ओडिशाएस॰सी॰ जमीर21 मार्च 2013 (03 वर्ष, 39 दिन)
कर्नाटकवजूभाई वाला01 सितम्बर 2014 (01 वर्ष, 241 दिन)
केरलपलनिस्वामी सदाशिवम05 सितम्बर 2014 (01 वर्ष, 237 दिन)
गुजरातओम प्रकाश कोहली16 जुलाई 2014 (01 वर्ष, 288 दिन)
गोवामृदुला सिन्हा31 अगस्त 2014 (01 वर्ष, 242 दिन)
छत्तीसगढबलराम जी दास टंडन25 जुलाई 2014 (01 वर्ष, 279 दिन)
जम्मू और कश्मीरनरिंदर नाथ वोहरा25 जून 2008 (07 वर्ष, 309 दिन)
झारखण्डद्रौपदी मुर्मू18 मई 2015 (0 वर्ष, 347 दिन)
तमिलनाडुबनवारी लाल पुरोहित30 सितम्बर, 2017
तेलंगानाई॰एस॰एल॰ नरसिंहन02 जून 2014 (01 वर्ष, 332 दिन)
त्रिपुरातथागता रॉय20 मई 2015 (345 दिन)
नागालैण्डपद्मनाभ बालकृष्ण आचार्य19 जुलाई 2014 (01 वर्ष, 285 दिन)
पंजाबकप्तान सिंह सोलंकी22 जनवरी 2015 (01 वर्ष, 98 दिन)
पश्चिम बंगालकेशरी नाथ त्रिपाठी24 जुलाई 2014 (01 वर्ष, 280 दिन)
बिहारसत्यपाल मलिक22 जून 2017
मणिपुरडॉ॰ नजमा हेपतुल्ला21 अगस्त 2016 (362)
मध्य प्रदेशओम प्रकाश कोहली (अतिरिक्त प्रभार)08 सितम्बर 2016
महाराष्ट्रचेन्नामनेनी विद्यासागर राव30 अगस्त 2014 (01 वर्ष, 243 दिन)
मिज़ोरमनिर्भय शर्मा26 मई 2015 (339 दिन)
मेघालयगवर्नर गंगा प्रसाद30 सितम्बर, 2017
राजस्थानकल्‍याण सिंह04 सितम्बर 2014 (01 वर्ष, 238 दिन)
सिक्किमश्रीनिवास दादासाहेब पाटील20 जुलाई 2013 (02 वर्ष, 284 दिन)
हरियाणाकप्तान सिंह सोलंकी27 जुलाई 2014 (01 वर्ष, 277 दिन)
हिमाचल प्रदेशआचार्य देव व्रत12 अगस्त 2015 (261 दिन)

केन्द्रशासित प्रदेशों के वर्तमान प्रशासक और उप-राज्यपालों की सूची:-

केन्द्रशासित प्रदेशनामपद ग्रहण(कार्यकाल अवधि)
अण्डमान और निकोबार द्वीपसमूह (उपराज्यपाल)देवेंद्र कुमार जोशी30 सितम्बर, 2017
चण्डीगढ़ (प्रशासक)वी.पी. सिंह बदनोर22 अगस्त, 2016
दमन और दीव (प्रशासक)प्रफुल्ल पटेल29 अगस्त, 2016
दादरा और नगर हवेली (प्रशासक)प्रफुल्ल पटेल30 दिसम्बर, 2016
दिल्ली (उपराज्यपाल)अनिल बैजल31 दिसम्बर, 2016
पुदुच्चेरी (उपराज्यपाल)किरन बेदी29 मई, 2016
लक्षद्वीप (प्रशासक)फ़ारुक़ ख़ान06 सितम्बर, 2016
राज्यपाल के पद में लिए योग्ताएं:
अनुच्छेद 157 के अनुसार राज्यपाल पद पर नियुक्त किये जाने वाले व्यक्ति में निम्नलिखित योग्यताओं का होना अनिवार्य है:-
  • वह भारत का नागरिक हो।
  • वह 35 वर्ष की आयु पूरी कर चुका हो।
  • वह राज्य सरकार या केन्द्र सरकार या इन राज्यों के नियंत्रण के अधीन किसी सार्वजनिक उपक्रम में लाभ के पद पर न हो
  • वह राज्य विधानसभा का सदस्य चुने जाने के योग्य हो।
राज्यपाल की नियुक्ति:
संविधान के अनुच्छेद 155 के अनुसार- राज्यपाल की नियुक्ति राष्ट्रपति के द्वारा प्रत्यक्ष रूप से की जाएगी, किन्तु वास्तव में राज्यपाल की नियुक्ति राष्ट्रपति के द्वारा भारत के प्रधानमंत्री की सिफ़ारिश पर की जाती है। राज्यपाल की नियुक्ति के सम्बन्ध में निम्न दो प्रकार की प्रथाएँ बन गयी थीं:-
  • किसी व्यक्ति को उस राज्य का राज्यपाल नहीं नियुक्त किया जाएगा, जिसका वह निवासी है।
  • राज्यपाल की नियुक्ति से पहले सम्बन्धित राज्य के मुख्यमंत्री से विचार विमर्श किया जाएगा।
यह प्रथा 1950 से 1967 तक अपनायी गयी, लेकिन 1967 के चुनावों में जब कुछ राज्यों में गैर कांग्रेसी सरकारों का गठन हुआ, तब दूसरी प्रथा को समाप्त कर दिया गया और मुख्यमंत्री से विचार विमर्श किए बिना राज्यपाल की नियुक्ति की जाने लगी।
राज्यपाल की उन्मुक्तियाँ तथा विशेषाधिकार:
राज्यपाल को निम्नलिखित विशेषाधिकार तथा उन्मुक्तियाँ प्राप्त हैं:-
  • राज्यपाल अपने पद की शक्तियों के प्रयोग तथा कर्तव्यों के पालन के लिए किसी न्यायालय के प्रति उत्तरदायी नहीं है।
  • राज्यपाल की पदावधि के दौरान उसके विरुद्ध किसी भी न्यायालय में किसी भी प्रकार की आपराधिक कार्यवाही प्रारम्भ नहीं की जा सकती।
  • जब राज्यपाल पद पर आरूढ़ हो, तब उसकी गिरफ्तारी या कारावास के लिए किसी भी न्यायालय से कोई आदेशिका जारी नहीं की जा सकती।
  • राज्यपाल का पद ग्रहण करने से पूर्व या पश्चात उसके द्वारा व्यक्तिगत क्षमता में किये गये कार्य के सम्बन्ध में कोई सिविल कार्यवाही करने के पहले उसे दो मास पूर्व सूचना देनी पड़ती है।







General Knowledge : Gk Veda
General Knowledge : Gk Veda

This is a short biography of the post author. Maecenas nec odio et ante tincidunt tempus donec vitae sapien ut libero venenatis faucibus nullam quis ante maecenas nec odio et ante tincidunt tempus donec.